CM योगी आदित्यनाथ को उड़ाने की कोशिश हुई नाकाम , पाया गया विस्फोटक


try to killed yogi adityanath , but he safe ,found a bomb

CM योगी आदित्यनाथ को उड़ाने की कोशिश हुई नाकाम , पाया गया विस्फोटक

योगी को उड़ाने की कोशिश आतंकी साजिश की गई | उत्तर प्रदेश में विधान भवन में विस्फोटक पाउडर मिलने के मामले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंपी जाएगी। CM योगी आदित्य नाथ ने शुक्रवार को विधानसभा में अपने भाषण के दौरान जब इस आशय का प्रस्ताव रखा तो सदन ने सर्वसम्मति से उसे पारित कर दिया। और सदन ने माना कि यह विधानसभा को उड़ाने की आतंकी साजिश भी हो सकती है। CM के भाषण के बाद विधायकों को छोड़ सभी के वाहन पास निरस्त करने और विधायकों के mobile अंदर ले जाने कर रोक लगा दिया गया। MLA भी अपने साथ किसी को नहीं ले जा सकेंगे। उनके Drivers के लिए भी अलग से पास जारी होगा। पूर्व विधायकों का भी वाहन पास निरस्त कर दिया गया । CM ने कहा कि किसी को भी सुरक्षा से खिलवाड़ करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि किसी को भी सुरक्षा जांच कराने में शर्म नहीं आनी चाहिए। सुरक्षा में सेंध लगाने वालों का पता लगाया जाएगा । Congress नेता और राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद ने विस्फोटक मिलने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, विस्फोटक अगर विपक्ष के नेता की सीट के नीचे मिल सकता है तो कल्पना कीजिए कि यूपी में कानून-व्यवस्था का क्या हाल है। किसी सरकार को इतनी जल्दी विफल होते नहीं देखा ।

 

try to killed yogi adityanath , but he safe ,found a bomb
Congress प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा कि यह प्रकरण विधानसभा जैसी कड़ी सुरक्षा वाले परिसर की सुरक्षा में गंभीरतम चूक है और सरकार को इसे गंभीरता से लेना चाहिए।योगी ने कहा कि यह मामला 22 करोड़ लोगों की सुरक्षा से जुडा है। इसका खुलासा होना ही चाहिये। इसमें सभी सदस्य सहयोग करेंगे। CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सुरक्षा सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है। इसमें सबका सहयोग जरुरी है । सफाईकर्मियों को मिला पाउडर पहले सामान्य लगा। लगा कि कोई सामान्य रसायन है, लेकिन जांच के बाद मिले लैब की रिपोर्ट से पता चला कि यह शक्तिशाली Explosive PETN है। मात्रा तो केवल 150 ग्राम थी लेकिन इसके विस्फोट से बड़ा नुकसान हो सकता था। पूरे विधानभवन को उड़ाने के लिये 500 ग्राम यह विस्फोटक काफी है।

 

try to killed yogi adityanath , but he safe ,found a bomb
उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने सदन में मिले विस्फोटक की जांच नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (NIA) से कराने की घोषणा की है। सदन की कार्यवाही शुरु होते ही नेता सदन और CM योगी आदित्यनाथ को सुनने के बाद दीक्षित ने कहा कि विस्फोटक को सदन के अन्दर लाने, रखने और साजिश आदि की जांच NIA से होनी ही चाहिए। उन्होंने इसे सुरक्षा में एक चुनौती मानते हुए सभी से एकजुट होकर help देने की अपील की।

 

try to killed yogi adityanath , but he safe ,found a bomb
CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सवाल यह उठता है कि आखिर वे कौन लोग हैं जिन्होंने इसे यहां तक पहुंचाया। विधानसभा की सुरक्षा के लिए अब विधानसभा के सभी प्रवेश द्वारों पर क्विक रिस्पांस टीम (क्यूआरटी) तैनात की जाएगी। प्रवेश द्वार पर पूरा शरीर चेक करने के लिए Scanner मशीन लगाई जाएगी। विधानभवन के कर्मियों का पुलिस वैरीफिकेशन होना चाहिये। उन्होंने कहा कि जो भी विधानभवन के अन्दर आये उसकी गहन तलाशी होनी चाहिये। वह जब पहली बार विधान भवन आये तो उन्हें अचरज लगा क्योंकि विधानसभा के members से ज्यादा अन्य लोग इधर-उधर घूम रहे थे। किसी को सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने की छूट नहीं दी जा सकती।

 

try to killed yogi adityanath , but he safe ,found a bomb

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *