चौथी पास ये लेडी डॉन,कमाती है 50 लाख रु महीना रह जाओगे हैरान

lady don

जोधपुर.शहर के थाने में मुंह पर घूंघट डाले खड़ी महिला को देख कोई नहीं कह सकता था कि वह मारवाड़ में नशीला पदार्थ डोडा पोस्त की सबसे बड़ी तस्कर है। कभी उसके तेजतर्रार स्वभाव से तस्कर भी डरते थे, लेकिन थाने में वह एकदम शांत थी, बैंच पर बैठने के लिए भी पुलिस वालों से पूछती। चौथी पास इस लेडी डॉन से पुलिस को मिली जानकारियां चौकाने वाली हैं। कभी किराए के घर में रहने वाली कमाती थी 50 लाख रुपए महीना…

– सुमता उर्फ सुमता विश्नोई छह साल पहले अपने बेरोजगार पति के साथ जोधपुर में गरीबी में गुजारा करती थी।
– पार्श्वनाथ कॉलोनी के बाहर किराए पर रहने के दौरान उसकी दोस्ती शराब तस्कर राजूराम से हुई। उनके ठाठ-बाठ देख महिला ने उनसे संपर्क बढ़ाए।
– फिर उसके जोधपुर के दूसरे तस्करों फिटकासनी श्रवण बाबल, प्रकाश व बाड़मेर, जैसलमेर से संपर्क हुए।
– वह इनके साथ सप्लाई पर जाने लगी। पुलिस की मानें तो कुछ तस्करों के जेल जाने के बाद सभी ने सुमता को अपना लीडर मान लिया।
रिश्तेदारों को भी तस्करी के काम में लगाया
– सुमता और उसके पार्टनर राजूराम विश्नोई ने नेटवर्क बढ़ने के बाद अपने रिश्तेदारों को भी तस्करी के काम में लगा दिया।
– सुमता ने अपने पति राजूराम भादू को बेंगलूरु में ट्रैक्टर और ट्रक देकर ट्रांसपोर्ट में लगा दिया था।
– इनमें से पुलिस ने सुमता समेत 6 आरोपियों को बुधवार कोर्ट में पेश कर 5 दिन की रिमांड में लिया।
कभी किराए के घर में रहने वाली सुमता की है आज 4 करोड़ की कोठी है जोधपुर में
– सुमता ने अपने कारोबार को इतनी ऊंचाई दी कि हर दूसरे दिन दो से तीन क्विंटल डोडा पोस्त की सप्लाई करती थी।
– इसमें उसे 3 लाख रुपए तक मुनाफा होता था। अगले एक साल से वह हर महीने 45 से 50 लाख रुपए कमा रही थी।
– उसके दोनों बच्चे शहर के एक नामी कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ रहे हैं। ब्लैक मनी को व्हाइट करने के लिए उसने बेटे के नाम कंस्ट्रक्शन कंपनी भी खोल रखी है।

जुनून इस कदर कि 400 किमी तक खुद गाड़ी चलाती थी सुनीता

– एडीसीपी अर्जुनसिंह ने बताया कि डेढ़ साल पहले प्रदेश में नशीला पदार्थ डोडा पोस्त पर रोक लगाने के साथ सुमता ने अपना नेटवर्क बढ़ाना शुरू किया।
– उसने पहले पुलिस की मुखबिरी की, बड़े तस्करों को पकड़वाया। फिर मारवाड़ से एमपी तक तस्करी में अपनी धाक जमाई। जैसे-जैसे सरकार की सख्ती बढ़ी, उसकी कमाई भी बढ़ी।
– पुलिस के मुताबिक सुमता पर तस्करी का जुनून इस कदर हावी था कि वह एमपी के नीमच से डोडा पोस्त लेकर जोधपुर तक 400 किमी का सफर खुद कार चलाकर करती थी।
– इस दौरान पुलिस को उसके महिला होने के कारण शक भी नहीं होता था। पुलिस को पता चला है कि उसके अंडर में दो दर्जन तस्कर काम करते थे।

लग्जरी गाड़ियों से करती थी तस्करी

– सुमता की गैंग लग्जरी गाड़ियों से ही तस्करी करती थी। इसके लिए एक दर्जन गाड़ियां गुजरात और दूसरी जगहों से चुराई गईं।
– इन गाड़ियों को फर्राटे से चलाने वाले ड्राइवरों को ही अपनी गैंग में शामिल किया। पुलिस को छापेमारी में जो गाड़ियां मिली हैं, वे भी चोरी की हैं।
– इन्हें चलाने वाले वाले गैंग से जुड़े कुछ ड्राइवर अब तक फरार हैं। तस्कर अपने इलाके में दूसरे को नहीं आने देते।
– सुमता का नेटवर्क फैला तो लड़ाई होने लगी। साथी राजूराम की कुछ गैंगो से मुठभेड़ भी हुई।
– साथ ही जालौर, बाड़मेर, बीकानेर, जोधपुर, जैसलमेर में डोडा पोस्त की सप्लाई सुमता के हाथ में आ गई।lady don

पुलिस हिरासत में

ये है सुमन की शानदार कोठी
kothi in jodhpur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *